इंसानियत आज भी जिंदा है ,इसकी जीती जागती तस्बीर उभर के आई है –बागोदर से

गिरीडीह, झारखण्ड: राजेन्द्र प्रसाद वर्मा की रिपोर्टबा: गोदर/गिरीडीह के बागोदर प्रखंड के घंघरी के ग्रामीणों ने इंसानियत का परिचय देते हुवे शनिवार को एक गरीब सब्जी बेचने वाले का बकाया पैसा उनकी पत्नी को लौटाया ।

क्या है मामला

बागोदर प्रखंड के गोपालडीह साव टोला निवासी देवकी साव अपने आस पास के गाँव मे सब्जी बेचकर जीवन जापान करता था रोजमर्रा के कार्य होने के कारण ग्रामीणों के साथ लगाव भी था इस वजह से उधार भी बेचा करता था । अचानक कुछ दिनों से बीमार होने के कारण बेहतर इलाज हेतु रिम्स (रांची)में एडमिट हुवा जंहा इलाज के दौरान मौत हो गयी देवकी साव अपने पीछे दो छोटे बच्चों पुत्र दीपक कुमार ,पुत्री खुशी कुमारी के साथ पत्नी जमनी देवी को अकेला छोड़ गए  परिवार के एकलौता कमाऊ सदस्य होने के कारण उनके जाने के बाद परिवार की स्तिथि काफी दयनीय हो गयी मुश्कील के वक्त सहारा बन के आए घंघरी के ग्रामीण शिक्षक हिरामन महतो के नेतृत्व में घंघरी के ग्रामीणों ने देवकी साव का बकाया सारा पैसा उनकी मृत्यु के बाद लौटाया । बताते चलें देवकी साव प्रतिदिन साइकिल से घंघरी में घर-घर जाकर सब्जी बेचकर अपना घर चलाते थे। लेकिन उनकी अचानक मौत से उनका सारा परिवार शोकाकुल में है।

8 thoughts on “इंसानियत आज भी जिंदा है ,इसकी जीती जागती तस्बीर उभर के आई है –बागोदर से

Leave a Reply

Your email address will not be published.