असामाजिक तत्वों का आतंक, खुले में शौच जाने को मजबूर बेटियां

दीपक नामदेवडिंडौरी, मध्यप्रदेश : जब शौचालय ही सुरक्षित नहीं तो कैसे सुरक्षित रहेंगी गांव  की बेटियां। डिंडौरी जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत छाटा गांव में असामाजिक तत्वों के आतंक का आलम यह है की गाव में असामाजिक तत्वों के चलते कोई भी शासकीय निर्माण सुरक्षित नहीं है। यहाँ तक की स्कूल के शौचालय भी नहीं।

मामला सुनकर आप भी चौक जायेंगे। जी हां ग्राम पंचायत छाटा के प्राथमिक बालक और बालिका स्कूल जहा बने है वहां एक नहीं दो दो शौचालय जिन्हें असामाजिक तत्वों के द्वारा तोड़ फोड़ कर दिया गया है।

दोनों स्कूल के शिक्षक सहित बच्चे भी खौफ में है।शिक्षक और छात्र छात्राए पिछले एक वर्ष से बाहर शौच में जाने को मजबूर हैं। कभी भी बड़ी घटना घट सकती है।

स्कूल प्रबंधन ने ग्राम पंचायत के सरपंच से लेकर विभाग के बीईओ कार्यालय तक इसकी शिकायत की लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। जिसके चलते पूरा स्कूल प्रबंधन सहित छात्र छात्राए भयभीत है।

वही मामले की जानकारी जब मीडिया ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनीता रावत को दी तो उन्होंने मामले की गंभीरता को देखते हुए जल्द कार्यवाही की बात कही।

ग्राम पंचायत छाटा में बना प्राथमिक बालक शाला जिसमे बच्चो की सुविधा के लिए दो शौचालय बनवाए गए। शौचालय के बनते ही गांव के ही असामाजिक तत्वों ने स्कूल में डेरा डाल लिया और बच्चो के बने शौचालय को तोड़फोड़ कर जर्जर कर दिया।

कुछ इसी तरह की तोड़ फोड़ प्राथमिक बालिका स्कूल में भी की गई जहा दोनों शौचालय अब छात्राओ के किसी काम के नहीं रहे। यही नहीं शर्मिन्दिगी के चलते यहाँ पढ़ाने वाली शिक्षिका भी बाहर शौच जाने को मजबूर है।

अगर यहाँ पढने वाले छात्र छात्रों की बात की जाये तो ये लोग शौच के लिए खुले में जाते है। प्राथमिक बालिका स्कूल के हेड मास्टर बिहारी लाल सरैया का कहना है कि शिकायत सरपंच से लेकर बीईओ तक कि गई लेकिन कोई कार्यवाही नही की गई। मन में भय बना रहता है। सुरक्षा के मद्देनजर किसी तरह का सहयोग ग्राम पंचायत नहीं करती है।

देश के प्रधानमंत्री का सपना है की शहर से लेकर गाव तक भारत स्वच्छ बने। लेकिन डिंडौरी के इस गाव के हाल को देख यही अंदाजा लगाया जा सकता है की जब शौचालय सुरक्षित नहीं तो कैसे रहेंगी सुरक्षित गांव की बेटिया ? वही मामले की गंभीरता को देखते हुए जिले की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनीता रावत ने असामाजिक तत्वों के खिलाफ  कार्यवाही का भरोसा दिलाया है ।

 

11 thoughts on “असामाजिक तत्वों का आतंक, खुले में शौच जाने को मजबूर बेटियां

  • November 24, 2019 at 1:26 am
    Permalink

    Wow, incredible blog layout! How long have you been blogging for?

    you made blogging look easy. The overall look of your web site is excellent, as well as
    the content!

  • November 24, 2019 at 2:49 pm
    Permalink

    I’ll right away grasp your rss as I can not to find your
    e-mail subscription hyperlink or newsletter service. Do you’ve any?
    Kindly permit me understand in order that I may just subscribe.
    Thanks.

  • November 25, 2019 at 7:28 am
    Permalink

    Great post. I was checking continuously this blog and I’m
    impressed! Very useful information specially the last part 🙂 I care for such information a lot.
    I was seeking this particular information for a long time.

    Thank you and best of luck.

  • November 26, 2019 at 7:17 pm
    Permalink

    If you are going for most excellent contents like I do, just go to see this site
    every day for the reason that it gives quality contents, thanks

  • December 5, 2019 at 8:59 pm
    Permalink

    If some one needs expert view concerning blogging and site-building then i advise him/her to go to see this web site, Keep up the nice work.

  • December 6, 2019 at 1:18 pm
    Permalink

    Wonderful post however I was wanting to know if you could write a litte more on this
    topic? I’d be very thankful if you could elaborate a little bit further.
    Thank you!

  • December 7, 2019 at 1:25 am
    Permalink

    I was able to find good information from your articles.

  • December 11, 2019 at 2:38 am
    Permalink

    Today, I went to the beachfront with my kids. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter
    and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear
    and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her
    ear. She never wants to go back! LoL I know this is totally off
    topic but I had to tell someone!

  • January 6, 2020 at 10:09 pm
    Permalink

    Undeniably believe that which you said. Your favorite reason appeared
    to be on the internet the simplest thing to be aware of.
    I say to you, I certainly get annoyed while people consider worries that they just don’t know about.
    You managed to hit the nail upon the top and also defined out the whole thing without having
    side effect , people can take a signal. Will likely be back to get more.
    Thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published.