जाने कौन है वो आतंकी, जिसकी वजह से CRPF के 42 जवान शहीद हो गए?

दिल्ली : 14 फरवरी को अवंतीपुरा के गोरीपोरा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में अब तक 42 जवान शहीद हो चुके हैं. कई जवान घायल हैं. इस हमले की जिम्मेदारी ली है जैश-ए-मोहम्मद ने और इस हमले के पीछे जिस आत्मघाती आतंकी का नाम सामने आया है वो है आदिल अहमद डार. जम्मू-कश्मीर में आजतक से जुड़े पत्रकार अशरफ वानी के मुताबिक आदिल अहमद डार को आत्मघाती हमले की ट्रेनिंग आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने दी थी. आदिल अहमद को ट्रेनिंग देने वाले का नाम था अब्दुल रशीद गाजी, जो पाक अधिकृत कश्मीर के कैंप में जैश-ए-मोहम्मद का चीफ इंस्ट्रक्टर रह चुका है. वो रहने वाला अफगानिस्तान का है. गाजी 9 दिसंबर को कश्मीर में दाखिल हुआ था, जिसे लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने भी अलर्ट जारी किया था.

सीआरपीएफ जवानों पर आत्मघाती हमला करने वाला आदिल अहमद पुलवामा के गुंडीबाग का रहने वाला है. वो पिछले साल ही जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हुआ था. फरवरी, 2018 में आतंकी जाकिर मूसा गज़वत उल हिंद में शामिल हो गया था. इसके बाद ही आदिल आतंकी बन गया था. बाद में वो जैश में शामिल हो गया. 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर नेशनल हाईवे पर CRPF की तीन बटालियनें जा रही थीं. छोटी-बड़ी 78 गाड़ियों में कुल 2547 जवान सवार थे. 14 फरवरी की शाम करीब 3 बजकर 20 मिनट पर आदिल ने अपनी कार को CRPF के काफिले से टकरा दिया. आदिल की कार में करीब 200 किलो विस्फोटक था. CRPF की 54वीं बटालियन की गाड़ी इस धमाके की चपेट में आ गई.

आदिल ने आत्मघाती हमले से पहले एक वीडियो भी बनाया था. इस हमले में उसने आत्मघाती हमला करने की बात कही थी. इसके अलावा आदिल अहमद का एक फोटो भी सामने आया है. इसमें वह अपने आपको जैश-ए-मोहम्मद का कमांडर बता रहा है. उसने अपनी फोटो पर लिखा है-  ‘गिन रखा है अपने लहू का हर कतरा हमने, न बख्शे हमारे शहीद हमें, जो हमने तुमको एक-एक कतरा गिनवाया नहीं – जाहिद बिन तलहा’.