गुस्से में आये पीएम मोदी, सेना को पूर्ण स्वतंत्रता

दिल्ली : कश्मीर में आतंकिओ के कायराना हमले के बाद 42 जवान शहीद हो गए थे। पूरे देश में शोक लहर है और गुस्से का माहौल है. पूरी दुनिया भी भारत के साथ कड़ी है. जिसके बाद आज पीएम मोदी, गृहमंत्री, रक्षामंत्री सेना चीफ,अजीत डोभाल की हाई लेवल मीटिंग ख़त्म हुई है. जिसमे अब अब सरकार एक्शन मोड में आयी है. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार दोपहर हुए अभी तक के सबसे बड़े आत्मघाती हमले के बाद आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी की बैठक हुई.

इस बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण शामिल रहे. बता दें, सीसीएस सुरक्षा और सामरिक मामलों पर निर्णय लेती है. इसी के साथ इस मीटिंग में CRPF के DG, NSA अजित डोभाल, सेना प्रमुख बिपिन रावत ने भी हिस्सा लिया.

सीसीएस की बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने मीडिया को संबोधित किया. अरुण जेटली ने कहा कि सीसीएस ने पुलवामा हमले की समीक्षा की और इसपर चर्चा की, बैठक में दो मिनट का मौन रखा गया. उन्होंने कहा कि जिन जवानों ने शहादत दी है उनपर देश को गर्व है.

विदेश मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए सभी संभावित कदम उठाएगा. बैठक में हुए सभी फैसलों को बाहर नहीं बताया जा सकता है. अरुण जेटली ने ऐलान किया कि भारत सरकार ने पाकिस्तान को दिया हुआ मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है.

पाकिस्तान को कूटनीतिक स्तर पर घेरने की तैयारी की जा रही है. भारत सरकार की ओर से शनिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई जाएगी और पुलवामा हमले पर चर्चा की जाएगी. सर्वदलीय बैठक की अगुवाई गृह मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे.