आसाराम प्रकरण: फैसले की घडी में शेष है महज दो दिन, पुलिस की उडी नींद

आसाराम प्रकरण: फैसले की घडी में शेष है महज दो दिन, पुलिस की उडी नींद

जोधपुर। देश के बहुचर्चित आसाराम प्रकरण में फैसला आने में अब महज दो दिन ही बाकी रह गए है। समर्थकों के उत्पात को रोकने के लिए एहतियात के तौर पर आसाराम को जोधपुर जेल में ही फैसला सुनाये जाने की व्यवस्था की जाएगी। वहीं फैसले की तारीख करीब आने के साथ ही जोधपुर पुलिस के माथे पर चिंता की लकीरें गहरी होती जा रही है। प्रशासन और पुलिस अमले के बीच लगातार बैठकें हो रही है कि किस तरह आसाराम के समर्थकों को जोधपुर आने से रोका जाए। पुलिस ने आसाराम के समर्थकों को शहर में प्रवेश से रोकने के पूरे इंतजाम किए है, इसके बावजूद पुलिस घबरा रही है कि समर्थक किसी भी तरह शहर में प्रवेश कर सकते है।
अपने गुरुकुल की एक नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीड़न के आरोप में आसाराम पर जोधपुर की एक अदालत में साढ़े चार साल से मुकदमा चल रहा है। अब इस मामले का फैसला पच्चीस अप्रेल को सुनाया जाएगा। आसाराम समर्थकों के शहर में उत्पात मचाने की आशंका को ध्यान में रख पुलिस ने हाईकोर्ट में अपील कर इस केस का फैसला जेल में ही सुनाने का आग्रह किया था। हाईकोर्ट ने पुलिस के आग्रह को स्वीकार कर फैसला जेल में ही सुनाने का आदेश दिया।

जेल में ही लगेगी कोर्ट

आसाराम को फैसला सुना ने के लिए बुधवार को जेल परिसर में ही कोर्ट लगेगी। आसाराम की बैरक के निकट ही स्थापित टाडा कोर्ट में फैसला सुनाया जाएगा। इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है। फैसला सुनाने के दौरान कोर्ट के चुनिन्दा कर्मचारियों व दोनों पक्षों के वकील के अलावा किसी अन्य को प्रवेश नहीं मिलेगा।

पुलिस की उड़ी नींद

आसाराम केस के फैसले के दिन बड़ी संख्या में उनके समर्थकों के जोधपुर पहुंचने की संभावना है। आसाराम के समर्थक पूर्व में कई बार हुड़दंग मचा चुके है। ऐसे में गत वर्ष गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद भड़की हिंसा से सबक लेते हुए जोधपुर पुलिस ने कड़े कदम उठाए है। जोधपुर शहर में पहले से दस दिन के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है। आसाराम के पाल व मणाई आश्रम में पुलिस का पहरा बिठा दिया गया है। शहर के विभिन्न नाकों पर पुलिस की नजरें टिक गई है। हर आने जाने वाले वाहनों की सघन चैकिंग की जा रही है। सोमवार से समर्थकों के जोधपुर आने की आशंका में आज पुलिस ने रेलवे, बस स्टैण्ड व निजी बस स्टैण्ड पर खास तौर पर नजर रखनी शुरू कर दी है। सुबह से ही पुलिस सादा वर्दी में समर्थकों पर नजर लगाए रही। पुलिस आसाराम समर्थकों को रोकने के लिए भरसक प्रयास में जुटी है। इसके लिए रेलवे , रोडवेज व निजी बस वालों से भी पुलिस ने वा र्ता की है। ताकि उसके समर्थकों को जोधपुर में सुनवाई के समय आने से रोका जा सके। पुलिस के अधिकारियों ने सुबह पुलिस लाइन सभागार में अफसरों के साथ बैठक कर आसाराम केस को लेकर रणनीति तय की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *